Thursday, May 23, 2024
Homeलोक कथाएँकोरियाई लोक कथाएँहोशियार लड़का : कोरियाई लोक-कथा

होशियार लड़का : कोरियाई लोक-कथा

Hoshiyar Ladka : Korean Folk Tale

एक चरवाहे का बेटा चीमो हर रोज अपनी भेड़ें चराने के लिए मैदान में जाया करता था । वह रोज सुबह भेड़ों को लेकर हरे-भरे मैदानों की ओर चल पड़ता था । सूरज डूबने से पहले ही वह घर को वापस चल देता था ।

एक दिन वह मैदान में बैठा कुछ सोच रहा था कि अचानक जोर से उछल पड़ा । उसने अपनी फर की टोपी जोर से हवा में उछाल दी ।

टोपी हवा में उछल कर उधर से गुजर रहे घोड़े के मुंह पर जा गिरी । अचानक टोपी गिरने से घोड़ा बिदक गया और अपनी पिछली टांगों पर खड़ा हो गया । घोड़े के अगले पैर ऊपर उठ जाने से घुड़सवार खेत में जा गिरा ।
इस घोड़े पर सवार युवक शहर के बड़े व्यापारी का बेटा था । वह सज-धज कर पिता के काम से कहीं जा रहा था ।

युवक को बहुत जोर का क्रोध आ गया । वह कपड़े झाड़कर खड़ा हो गया और चिल्लाकर चरवाहे के लड़के से बोला – “ऐ लड़के, तुम्हें जरा भी अक्ल नहीं । तुमने मेरे घोड़े को डरा दिया और मुझे गिरा दिया ।”
चीमो बोला – “मैंने तो खुशी में टोपी उछाली थी मुझे क्या पता था कि यह घोड़े के पास गिरेगी और घोड़ा डर जाएगा ।”
“ऐसी क्या खुशी मिल गई तुम्हें । जरा हमें भी तो बताओ और अगर मुझे चोट लग जाती तो तुम्हारी खैर नहीं थी ।” युवक बोला ।
चीमो बोला – “मेरे पिता ने मुझसे एक सवाल पूछा था मैंने उसका उत्तर ढूंढ़ लिया है ।”
“ऐसा क्या सवाल था ?”
“सवाल यह था कि वह चीज है जो आदमी से ऊंची है, लेकिन मुर्गी से छोटी ।”
“भला ऐसी क्या चीज हो सकती है ?”
“तो क्या इसका उत्तर आपको भी नहीं मालूम ।”
“मालूम तो है पर तुम्हारे मुंह से सुनना चाहता हूं ।” युवक ने चतुराई से कहा ।
चीमो बोला – “वह चीज टोपी है । यह मनुष्य के सिर पर रहकर मनुष्य से ऊंची रहती है, परंतु जमीन पर रख दो तो मुर्गी से भी छोटी बन जाती है ।”

युवक चीमो की बात सुनकर बहुत प्रसन्न हुआ । वह बोला – “काफी होशियार जान पड़ते हो । यदि तुमने मेरा एक काम कर दिया तो में तुम्हें ढेर-सा इनाम दूंगा । कल मैं लौटते वक्त तुम्हारे पास आऊंगा । तुम मेरे लिए एक ऐसी भेड़ का इंतजाम करके रखना, जो न काली हो, न भूरी हो, न सफेद हो और न ही चितकबरी हो ।”
यह कहकर वह युवक वहां से चला गया । चीमो उसके जाने के बाद सोचता रहा ।

अगले दिन चीमो अपनी भेड़ चरा रहा था । तभी फल वाला युवक अपने घोड़े पर सवार आया और बोला – “लड़के क्या तुमने मेरे लिए मेरी मनपसन्द भेड़ लाकर रखी है ।”

चीमो बोला – “आपकी मनपसन्द भेड़ मेरे घर पर है । आप उसे किसी को भेज कर मंगवा सकते हैं । परंतु ध्यान रखिएगा कि जो व्यक्ति लेने आए वह न रविवार को आए, न सोमवार या मंगल को न बुद्ध या बृहस्पति को, न शुक्र या शनिवार को दिन में आए न रात्रि में ।”

चीमो की बात सुनकर युवक जोर से हंसा और बोला – “मैं तुम्हारी बुद्धिमत्ता से खुश हुआ । यह सोने की पांच अशर्फियां तुम्हारा इनाम है । यदि तुम कभी कोई नौकरी करना चाहो तो मेरे पास चले आना ।”

यह कर कर युवक ने अपना पता चीमो को दे दिया और घोड़े पर सवार होकर घोड़ा दौड़ाता हुआ चला गया ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments